लॉकडाउन में पत्नी पलक हो रही थी बोर, अमेरिकी सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने बनाया ऐसा गेम अब हो रही है पूरी दुनिया में चर्चा

0
50


हाइलाइट्स

  • अपने गेम से दुनिया को दीवाना बना रहे अमेरिकी सॉफ्टवेयर इंजिनियर जोस वर्डले
  • जोस वर्डले ने बनाया ऐसा वर्डप्ले गेम अब दुनिया भर में छा गया यह प्यारा तोहफा
  • वर्डले गेम में 5 अक्षरों से बनाना होता है एक शब्द, 6 चांस मिलते हैं, ट्विटर पर हिट

शैलेंद्र पांडेय
नई दिल्ली: अमेरिका के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने लॉकडाउन के दौरान बोर हो रही अपनी पत्नी के लिए एक ऐसा गेम डिवलेप किया जिसकी आज पूरी दुनिया दीवानी हो रही है।

जोस वार्डले की पत्नी पलक शाह को ‘द न्यू यॉर्क टाइम्स’ के क्रॉसवर्ड पजल हल करने का शौक था। फिर कोरोना आया और लॉकडाउन लगा। जोस ने एक गेम डिवेलप किया और उसे पत्नी को तोहफे में दे दिया। गेम का नाम रखा वर्डले। महीनों तक यह खेल इन दोनों के बीच चला। फिर वॉट्सऐप से करीबियों को गेम भेजना शुरू किया। पिछले साल अक्टूबर में जोस ने बाकी दुनिया से इसका परिचय कराया। अब गेम खेलने वालों की संख्या लाखों में जा पहुंची है। खेल पांच अक्षरों के एक शब्द के बारे में कयास लगाने का है। इसके लिए 6 मौके मिलते हैं। नहीं कर पाए, तो उस दिन का खेल खत्म। पूरे दिन लगे रहने की जरूरत नहीं। बस तीन मिनट में ही खेल पूरा हो जाता है।

तेजी से लोकप्रिय हो रहा है भारत में
अक्टूबर 2021 में रिलीज के बाद से दुनिया भर में करीब साढ़े आठ लाख ऐसे ट्वीट हो चुके हैं, जिनमें वर्डले का जिक्र है। भारत में वर्ड गेम के प्रति दीवानगी रखने वालों को हाल ही में इसका पता चला है। भारतीयों के बीच इससे जुड़ी करीब 96 फीसदी बातचीत मौजूदा जनवरी के महीने की ही है। भारतीयों के बीच इस गेम को लेकर सोशल मीडिया पर की जा रही बातचीत में रोजाना औसतन 48 फीसदी की बढ़ोतरी हो रही है।

Aruna Chawla Story: 26 साल की महिला एंटरप्रेन्योर ने शुरू की कॉन्डोम कंपनी, पुरानी सोच पीछे छोड़ यूं​ लिख रही कामयाबी की दास्तां
जोस वार्डले के पिछले काम भी अब चर्चा में
वैसे इस गेम से पहले जोस वार्डले कभी खबरों में नहीं आए। उनके पिछले काम भी अब इस नए काम की वजह से चर्चा में आ रहे हैं। एक समय वह रेडिट में काम करते थे। यह एक तरह की कंटेंट रेटिंग और डिस्कशन वेबसाइट है। साल 2015 में इसने एक सामाजिक प्रयोग किया, एक मेटा-गेम लॉन्च किया ‘द बटन’। मेटा-गेम मतलब इसका कोई दायरा नहीं। रेडिट पर एक साधारण-सा बटन दे दिया और साथ में 60 सेकंड का टाइमर। दुनिया में कहीं भी, जब भी कोई इस बटन को दबाता, तो टाइमर शुरू से चालू हो जाता। अप्रैल फूल वाले दिन इस बटन को शुरू किया गया था और अगले दो महीने से ज्यादा समय तक 10 लाख से अधिक लोगों ने इस बटन को दबाया। इन लोगों ने टाइमर को जीरो पर जाने ही नहीं दिया और इस तरह खेल इतना लंबा चला। इस बटन के पीछे जिन लोगों का दिमाग था, उनमें जोस वर्डले भी थे। तब भी उन्होंने लोगों को एक काम दे दिया था कि किसी भी हालत में टाइमर को बंद नहीं होने देना है।

जोस का यह जो नया कारनामा है, उसके सफल होने के पीछे दो वजहें प्रमुख मानी जा रही हैं। आमतौर पर जब किसी गेम की लत लग जाती है, तो पूरा दिन समझिए ख़राब हुआ। वर्डले लेकिन ऐसा नहीं। हर दिन केवल एक ही शब्द आना है और केवल एक ही बार आना है। कोई या तो सफल होगा या फिर असफल। इसमें रिट्राई का लुभावना विकल्प नहीं है। लोगों को यह ज्यादा अच्छा लग रहा है कि वे कुछ काम करते हुए भी पांच अक्षरों के शब्द के बारे में सोचते रह सकते हैं। यह गेम उनका समय नहीं खा रहा। जोस ने ‘द न्यू यॉर्क टाइम्स’ के साथ बातचीत में बताया कि वर्डले को हर दिन केवल तीन मिनट चाहिए, बस।

मिस यू पापा… एक भावुक चिट्ठी, जो जोमेटो के उस बदनसीब डिलिवरी बॉय के बेटे ने इंसाफ के लिए लिखी है
अब दूसरा कारण। ‘द बटन’ की सफलता का राज था कि रेडिट के सारे यूजर एक-दूसरे को जाने बिना भी एक मुहिम में साथ लग गए थे। सभी को इस एक लक्ष्य ने साथ जोड़ दिया था कि टाइमर चलते रहना चाहिए। वर्डले भी अपने लाखों गेमर्स को जोड़ने वाली कड़ी है। एक समय में दुनिया के लाखों लोग एक ही शब्द को लेकर माथापच्ची कर रहे होते हैं। इसमें लक भी चाहिए और दिमाग भी।

जोस और उनकी पत्नी ने जब वर्डले को सार्वजनिक करने के बारे में सोचा, तो पहले यह तय किया कि जिन शब्दों के साथ खेलना है, वे कौन-कौन होंगे। पलक ने अंग्रेज़ी के उन शब्दों की लिस्ट तैयार की, जिनमें पांच अक्षर होते हैं। फिर उनमें से वे शब्द छांटे, जो आजकल ज़्यादा चलन में हैं। दोनों ने मिलकर करीब ढाई हज़ार शब्दों की एक फाइनल सूची बनाई है। इसी से हर दिन एक नया शब्द सामने आता है। अब अगर आपका भी मन मचलने लगा है वर्डले के लिए, तो दोष मत दीजिएगा! पहले ही आगाह किया गया था। इस लिंक पर जाकर वर्डले खेल सकते हैं – https://www.powerlanguage.co.uk/wordle/

पांच अक्षरों का खेल
आपको शुरुआत करनी है पांच अक्षरों के किसी भी एक शब्द से। जैसे ही आप पहली बार में खानों में कोई शब्द भरेंगे, उसमें रंग उभर आएंगे- हरा, पीला और ग्रे। यहां हरे का मतलब है कि आपने बिल्कुल सही खाने में सही शब्द लिख दिया है। पीले का मतलब हुआ कि शब्द तो सही है, लेकिन खाना गलत है। ग्रे रंग आया, तो जान जाइए कि न शब्द सही है और न उसकी जगह। अब आपको जो सही अक्षर मिला है, उसी को पकड़कर गेस मारिए कि इसे मिलाकर पांच अक्षरों का कौन-सा शब्द बन सकता है। लेकिन याद रहे, मौके हैं केवल 6।



Source link