नया महीना: हिन्दी पंचांग का अंतिम माह फाल्गुन शुरू, इस माह में शिवरात्रि और होली मनाई जाएगी

0
10


  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Phalgun Month Starts From 28 February, The Last Month Of Hindi Panchang Is Phalgun, Shivratri 2021, Holi 2021, Significance Of Phalgun

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

18 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • फाल्गुन मास में बालकृष्ण, राधा-कृष्ण और गुरु कृष्ण; श्रीकृष्ण ने इन तीन स्वरूपों की पूजा करें

रविवार, 28 फरवरी से हिन्दी पंचांग का अंतिम 12वां महीना फाल्गुन शुरू हो गया है। इस महीने में शिवरात्रि (11 मार्च) और होलिका दहन (28 मार्च) जैसे बड़े पर्व मनाए जाएंगे। इसे फागुन भी कहते हैं। फागुन में भगवान श्रीकृष्ण के तीन स्वरूपों की पूजा खासतौर पर की जाती है।

जो लोग संतान सुख पाना चाहते हैं, उन्हें बालकृष्ण की पूजा करनी चाहिए। जो लोग परिवार में सुख-शांति बनाए रखना चाहते हैं, उन्हें राधा-कृष्ण और जो लोग ज्ञान पाना चाहते हैं, उन्हें गुरु कृष्ण की पूजा करनी चाहिए। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा से जानिए फाल्गुन मास से जुड़ी खास बातें…

श्रीकृष्ण के साथ ही चंद्रदेव की भी पूजा जरूर करें

फाल्गुन उत्सव के साथ ही अध्यात्म और प्रकृति के नजरिए से बहुत खास है। शिव-पार्वती के विवाह की तिथि महाशिवरात्रि इसी महीने मनाई जाती है। रंगों का त्योहार होली 29 मार्च को खेला जाएगा। साथ ही, ये महीना वसंत ऋतु का भी है। इस माह में प्रकृति में कई बदलाव होते हैं। इस माह में मेडिटेशन जरूर करना चाहिए। फाल्गुन में श्रीकृष्ण और चंद्र की पूजा करने की परंपरा है। मान्यता है कि चंद्रदेव का जन्म फाल्गुन माह में ही हुआ था।

फाल्गुन की खास तिथियां

इस महीने में शिवरात्रि और होली के अलावा कुछ और खास तिथियां रहेंगी। कृष्ण पक्ष की विजया एकादशी 9 तारीख को, शुक्ल पक्ष की आमलकी एकादशी 24 मार्च को रहेगी। इस माह की अमावस्या 13 तारीख को मनाई जाएगी। 28 मार्च को फाल्गुन पूर्णिमा है। इसी दिन होलिका दहन होगा। अगले दिन यानी 29 तारीख को होली खेली जाएगी और इसी दिन से हिन्दी पंचांग का पहला महीना चैत्र भी शुरू हो जाएगा।

फाल्गुन महीन में दैनिक जीवन में करें बदलाव

इस महीने से गर्मी बढ़ने लगेगी। इस वजह से खानपान में बदलाव करना चाहिए। ऐसी चीजें खाने से बचें, जिनकी वजह से अपच की शिकायत हो सकती है। संतुलित आहार लें। सब्जियां अधिक से अधिक खाएं। सुबह जल्दी उठें और व्यायाम करें। कुछ देर ध्यान करें। स्नान के बाद सूर्य को जल चढ़ाएं और पूजा-पाठ करके दिन की शुरुआत करें।

खबरें और भी हैं…



Source link